भारतीय युवाओं ने खुद को किया साबित बोले PM मोदी

0
9

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को स्टार्ट-अप और नए आविष्कार की दिशा में काम कर रहे युवाओं से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात की। इस दौरान उन्होंने कहा कि स्टार्टअप अब केवल बड़े शहरों तक सीमित नहीं हैं। छोटे शहरों और गांवों भी वाइब्रेंट स्टार्टअप केंद्र के तौर पर उभर रहे हैं। पीएम ने कहा कि आज हमारा युवा रोजगार मांगने वाला नहीं बल्कि रोजगार देने वाला बन रहा है। हम दुनिया के सबसे युवा देशों में से एक हैं।

PunjabKesari
युवाओं की बढ़ी ताकत 
इस चर्चा में देहरादूर, रायपुर और गुवाहाटी जैसे शहरों के युवा उद्यमियों ने भी भाग लिया। पीएम ने कहा कि     स्टार्टअप के लिए‘ मेक इन इंडिया‘ के साथ‘ डिजाइन इन इंडिया‘ भी बहुत आवश्यक है। इस क्षेत्र में आगे निकलने के लिए पर्याप्त पूंजी , साहस और लोगों से संपर्क जरूरी है। उन्होंने कहा कि एक समय था जब स्टार्टअप केवल डिजीटल और तकनीकी नवोन्मेष के क्षेत्र तक सीमित था। अब चीजें बदल रही हैं और हम देख रहे हैं कि कृषि समेत अन्य क्षेत्रों में स्टॉटअप आ रहे हैं। हमने कृषि ग्रैंड चैलेंज शुरू किया है। कृषि क्षेत्र में कैसे बदलाव लाया जा सकता है इस पर विचार के लिए हम और युवाओं को आमंत्रित कर रहे हैं।

PunjabKesari
स्टार्टअप इंडिया महत्वाकांक्षी योजना 
मोदी ने कहा कि देश में नए उद्यमियों को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने स्टार्टअप इंडिया की कार्य योजना पेश की थी। इस योजना का उद्देश्य कर रियायत, इंस्पेक्टर राज मुक्त शासन और पूंजीगत लाभ कर छूट जैसे प्रोत्साहन देना है। उन्होंने कहा कि हमारी स्टार्टअप कंपनियां वृद्धि का इंजन है। आज की बड़ी कंपनियां भी एक समय पर स्टार्टअप ही थीं। मैं भारत के लोगों से नवाचार करते रहने का आग्रह करता हूं।
PunjabKesari
युवाओं ने बनाई अपनी अलग पहचान 
प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत के युवा अब नौकरियां सृजित कर रहे हैं और सरकार इस जनसांख्यिकी लाभांश का उपयोग करने के लिए प्रतिबद्ध है। जनसांख्यिकी लाभांश से तात्पर्य एक ऐसी स्थिति से है जब कुल आबादी में काम करने की आयु वाली आबादी (युवा वर्ग) का अनुपात अधिक होता है। स्टार्टअप के लिए पूंजी उपलब्धता से जुड़े सवाल पर मोदी ने कहा कि सरकार ने इसके वित्तपोषण के लिए 10,000 करोड़ रुपये का कोष स्थापित किया है। उन्होंने कहा कि स्टार्टअप कंपनियां अपने उत्पाद सरकार को बेच सकती है और इसके लिए सार्वजनिक खरीद नियमों को आसान बनाया गया है। भारत ने वैश्विक स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र में खुद से अलग पहचान बनाई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

− 6 = 3