श्री गुरु रविदास के 636वें प्रकाशोत्सव पर राज्य स्तरीय समारोह आयोजित

0
566

हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने आज कहा कि हरियाणा सराकार संत शिरोमणि श्री रविदास द्वारा समाज को दिये गए समानता के सिद्धांतों पर चलते हुए समाज के सभी वर्गों, विशेषकर अनुसूचित जाति के कल्याणार्थ अनेक कदम उठा रही है तथा छत्तीस बिरादरी को साथ लेकर चल रही है।

        मुख्यमंत्री आज पंचकूला के सैक्टर 15 स्थित रविदास मंदिर में संत शिरोमणि श्री गुरु रविदास के 636वें प्रकाशोत्सव पर श्री गुरु रविदास सभा, द्वारा आयोजित राज्य स्तरीय समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में बोल रहे थे।

        मुख्यमंत्री ने गुरु रविदास सभा पंचकूला द्वारा उनकी शिक्षाओं एवं आदर्शों पर चलते हुए कार्य करने के लिए  बधाई भी दी तथा इस अवसर पर उन्होंने अपने स्वैछिक कोष से 21 लाख रूपए की राशि पुस्तकालय, कम्प्यूटर तथा फर्नीचर के लिए देने की घोषणा की।

        उन्होंने कहा कि  जब-जब  मानवता भटकी है, समाज में कुरीतियां आई हैं तब-तब देश में ऋषि मुनियों, पैगंबरों एवं संत-महात्माओं ने जन्म लिया है और समाज को सही रास्ता दिखाया है। श्री रविदास ने भी 636 वर्ष पूर्व जन्म लिया था उस समय जात-पात, अंधविश्वास जैसी बुराईयां चरम सीमा पर थी। उन्होंने जो रास्ता दिखाया वह एक जाति का न होकर मानवता का प्रदर्शक बना। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार गीता में जो कर्म  का सिद्धांत दिया गया था। उसी प्रकार संत रविदास का मानना था कि जन्म और जाति से कोई छोटा व बडा नहीं होता बल्बि कर्म से ही उसकी पहचान होती है। उन्होंने कर्म के सिद्धांत को अपनाया।

        मुख्यमंत्री नें कहा कि वे एक स्वतंत्रता सेनानी परिवार से हैं। उनके दादा चौधरी मातू राम व पिता र्स्व0 चौधरी रणबीर सिंह ने स्वतंत्रता संग्राम में अहम भूमिका निभाई। उन्होंने कहा कि उनके पिता डॉ0 भीम राव अंबेडकर के साथ संविधान निर्मात्री सभा के सदस्य  थे। संविधान में सबको मत का अधिकार दिया। सब को समानता का अधिकार दिया तथा देश में कोई भूखा न रहे, कोई वस्त्र व छत के बगैर न रहे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी की राजनैतिक विचारधारा भी यही है। कांग्रेस उनका परिवार है। गरीब व कांग्रेस का चौली-दामन का साथ रहा है।

        मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष  2005 में जब पहली बार उन्हें प्रदेश की बागडोर संभालने का अवसर प्रदान हुआ था तो उस समय मंत्रीमंडल की पहली बैठक में उनके निर्देश थे कि कोई भी फैसला लेते समय इस बात को ध्यान में रखा जाए कि गरीब से गरीब व्यक्ति को इसका क्या लाभ होगा।  उन्होंने कहा कि आने वाला समय शिक्षा का है और दुनिया में वही समाज व देश आगे बढेगा जो शिक्षा के क्षेत्र में आगे होगा। हमने सेहत व शिक्षा पर विशेष जोर दिया है। सेहत खेलों से आती है व शिक्षा पढाई से। सरकार की खेल नीति की विश्व भर में चर्चा हो रही है वहीं दूसरी ओर शिक्षा के क्षेत्र में अभूतपूर्व तरक्की प्रदेश ने कही है। नये-नये स्कूल, कॉलेज, विश्वविद्यालय व तकनीकी संस्थान खोले गए हैं।

        मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा एक छोटा प्रेदेश होने के बावजूद भी अनुसूचित जाति व पिछडा वर्ग-ए के विद्यार्थियों  को पहली से 12वीं कक्षा तक 75 से 400 रूपए मासिक वजीफा दे रहा है, जो विश्व में अपनी तरह का एक  अनूठी कार्यक्रम है। इस योजना के तहत 19.70 लाख विद्यार्थी लाभान्वित हो रहे हैं। उन्होंने बताया कि गरीबों को 100-100 वर्ग गज के रिहायशी मुफ्त प्लाट देने की महात्मा गांधी ग्रामीण बस्ती योजना के तहत 3 लाख 83 हजार परिवारों को इसका लाभ दिया जा चुका है।

        इस अवसर पर शिक्षा मंत्री श्रीमती गीता भुक्कल ने कहा कि प्रदेश, देश व विश्व में कई जगहों पर आज रविदास जयंती मनाई जा रही है। उन्होंने कहा कि संत रविदास किसी एक जाति के पथ प्रदर्शक नहीं थे बल्कि उन्होंने पूरी मानवता को समानता का रास्ता दिखाया। हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा पिछले आठ वर्षों से छत्तीस बिरादरी को साथ लेकर चल रहे हैं। उन्होंने कहा कि संत शिरोमणि गुरु रविदास ने वर्षों पूर्व भाईचारे का जो संदेश दिया था  उस पर मुख्यमंत्री श्री हुड्डा चल रहे हैं। इसके लिए वे बधाई के पात्र हैं। हरियाणा सरकार मुख्यमंत्री के नेतृत्व में सभी वर्गों के लिए अनेक योजनाएं चलाई हैं जिनका लाभ सभी को समान रूप से मिल रहा है। मुख्यमंत्री ने पिछले आठ वर्षों के दौरान विभिन्न शहरों में रविदास भवन के लोगों जगह उपलब्ध करवाई है। उन्होंने लोगों से शिक्षित, संगठित और संघर्ष करने का आहवान करते हुए कहा कि आज यहां से सभी लोग ये प्रण लें कि वे संतों के दिखाए मार्ग को आत्मसात करते हुए अच्छा नागरिक बनने का प्रयास करेंगे।

         हरियाणा प्रदेश कांग्रेस समिति के अध्यक्ष श्री फूल चंद मुलाना, मुख्य संसदीय सचिव श्री राम किशन गुज्जर, पंचकूला के विधायक श्री डी0के0 बंसल ने भी समारोह को संबोधित किया और उपस्थित लोगों से श्री गुरु रविदास के सिद्धांतों पर चलने का आहवान किया।

        समारोह में मुख्य मंत्री के राजनैतिक सलाहकार प्रो0 विरेन्द्र, पूर्व विधायक श्री लहरी सिंह, खैराती लाल शर्मा, हरियाणा आयुष बोर्ड के चेयरमैन डॉ0 संजय अत्री, हरियाणा कला परिषद की निदेशक श्रीमती ऊषा शर्मा, हरियाणा तकनीकी शिक्षा  विभाग के प्रधान सचिव श्री धनपत सिंह, ओद्यौगिक प्रशिक्षण विभाग के प्रधान सचिव श्री आर0पी0 चंद्रा, नगर परिषद पंचकूला के चेयरमैन श्री रविंदर रावल, जिला परिषद के अध्यक्ष श्री राजेश कोना, जिला परिषद की पूर्व अध्यक्ष श्रीमती मनवीर कौर गिल्ल, जिला कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष श्री ओमप्रकाश देवीनगर, अम्बाला रेंज के पुलिस आयुक्त राजबीर देशवाल, पंचकूला  की उपायुक्त श्रीमती आशिमा बराड, उपायुक्त पुलिस श्रीमती नाजनीन भसीन नगराधीश श्रीमती वंदना दिसोदिया, हरियाणा सिविल सचिवालय कर्मचारी संघ के पूर्व अध्यक्ष बलवान सिंह चौधरी, कांग्रेस नेता श्री चांदवीर हुड्डा, रविदास सभा के प्रधान श्री मोहन लाल, पंचकूला व आस-पास के क्षेत्रों से आए बडी संख्या में रविदास सभा के सदस्य व गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे।

        इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने भारतीय  महिला हॉकी जुनियर टीम की कप्तान रितु रानी, जिन्होंने हाल ही में आगामी ओलंपिक के लिए क्वालिफाई किया है, को खेल नीति के अनुसार नौकरी देने का आश्वासन भी दिया । श्री हुड्डा ने इस अवसर पर एक स्मारिका का विमोचन भी किया